तिल के फायदे (Til ke Fayde)

आमतौर पर सर्दियों में तिल का इस्तेमाल तो होता ही है। सर्दियों के दौरान मीठी चीजों में गुड़ के साथ इसका स्वाद बहुत अच्छा लगता है। तिल में मोनो-सैचुरेटेड फैटी एसिड होता है जो शरीर से कोलेस्ट्रोल को कम करता है। दिल से जुड़ी बीमारियों के लिए भी यह बेहद फायदेमंद है।(til ka tel ke fayde)

तिल में सेसमीन नाम का एन्टीऑक्सिडेंट पाया जाता है जो कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है। अपनी इस खूबी की वजह से ही यह लंग कैंसर, पेट के कैंसर, ल्यूकेमिया, प्रोस्टेट कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर होने की आशंका को कम करता है। इसके अलावा भी तिल के कई फायदे हैं…

त्वचा के लिए

तिल या तिल का तेल त्वचा के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। इसकी मदद से त्वचा को जरूरी पोषण मिलता है और इसमें नमी बरकरार रहती है। तिल का उपयोग चेहरे पर निखार के लिए भी किया जाता है। तिल को दूध में भिगोकर उसका पेस्ट चेहरे पर लगाने से चेहरे पर प्राकृतिक चमक आती है, और रंग भी निखरता है। इसके अलावा तिल के तेल की मालिश करने से भी त्वचा कांतिमय हो जाती है।

जाने अपनी Skin Type के बारे में

कब्ज के लिए

aloevera

तिल को कूटकर खाने से कब्ज की समस्या नहीं होती, साथ ही काले तिल को चबाकर खाने के बाद ठंडा पानी पीने से बवासीर में लाभ होता है। इससे पुराना बवासीर भी ठीक हो जाता है। खूनी बवासीर में खून बंद करने के लिये 10  ग्राम काले तिल को पानी के साथ पीस कर इसमें एक चम्‍मच मक्‍खन मिला कर चाटें। इसमें चाहें तो मिश्री मिला कर सुबह-शाम खा सकते हैं।

कब्ज Dur Karne Ke Upay

गठिया के लिए

तिल के बीज में तांबा होता है, एक खनिज जो एंटीऑक्सिडेंट एंजाइम प्रणालियों के लिए महत्वपूर्ण है, इसलिए यह गठिया और गठिया से जुड़ी सूजन को कम करने में सहायक है। इसके अतिरिक्त यह खनिज रक्त वाहिकाओं, हड्डियों और जोड़ों को मजबूती प्रदान करता है। तिल में मौजूद मैग्नीशियम – अस्थमा और अन्य साँस के रोगों को रोकने में मदद करता है।

एनीमिया के लिए

तिल, खासकर के काले तिल लोहे से भरपूर होते हैं, इसलिए एनीमिया के रोगियों को इसका सेवन करना चाहिए। तिल में सेसमोल नामक आर्गेनिक यौगिक होता है। यह रेडिएशन के हानिकारक प्रभावों से डीएनए की रक्षा करता है आप रेडिएशन के प्रभाव में कई आकस्मिक स्रोतों से जैसे कीमोथरेपी और रेडियोथरेपी के कारण आ सकते है।

Read more about एनीमिया here…

बालों के लिए

तिल का प्रयोग बालों के लिए वरदान है। तिल के तेल का प्रयोग या फिर प्रतिदिन थोड़ी मात्रा में तिल को खाने से, बालों का असमय पकना और झड़ना बंद हो जाता है।

हृदय की मांसपेशि‍यों के लिए

तिल में कई तरह के लवण जैसे कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, जिंक और सेलेनियम होते हैं जो हृदय की मांसपेशि‍यों को सक्रिय रूप से काम करने में मदद करते हैं।

दांतों के लिए

तिल, दांतों के लिए भी फायदेमंद है। सुबह शाम ब्रश करने के बाद तिल को चबाने से दांत मजबूत होते हैं, साथ ही यह कैल्शियम की आपूर्ति भी करता है।

हड्डियों के लिए

तिल में डाइट्री प्रोटीन और एमिनो एसिड होता है जो बच्चों की हड्डियों के विकास को बढ़ावा देता है। इसके अलावा यह मांस-पेशियों के लिए भी बहुत फायदेमंद है।