Advertisement
Categories: Child Care

छोटे बच्चों की सुरक्षा को लेकर कैसे अलर्ट रहें

अक्सर  पेरेंट्स छोटे बच्चों की सुरक्षा को लेकर बहुत ज्यादा चिंतित रहते हैं और स्वाभाविक भी है। बड़े बच्चे तो समझदार हो जाते हैं, पर छोटे बच्चों बहुत मासूम होते हैं इसलिए पेरेंट्स को उनकी सेफ्टी को लेकर बहुत चिंता रहती है। तो क्या चिंता होनी चाहिए या चिंता करने की बजाय हमें उपाय खोजने चाहिए। कल कुछ रेलेटिवस शैफाली, पलक, रुचि से मिलना हुआ। इन सभी के बच्चे बहुत छोटे हैं और ये चिंतित भी थी, पर आपस में डिस्कस भी कर रही थी कि क्या करना चाहिए। उनकी बातों से कुछ बहुत अच्छे पोईंटस उभर कर आए।

तो वो मैं आपसे शेयर कर रही हूं…

स्ट्रांग बनाइये

सबसे पहले तो पेरेंट्स को बच्चों को स्ट्रांग रहने की शिक्षा देनी चाहिए। बच्चों को ज्यादा छुई मुई या डेली केट नही बनाना चाहिए पर ममाज boy भी नही बनाना चाहिए। पेरेंट्स को बताना चाहिए कि अगर कभी कोई अजनबी, धीरे से इशारा कर उसे चॉकलेट, या अन्य खाने पीने की वस्तुओं का लालच देकर बुलाए तो मना कर देना चाहिए।

Advertisement

बच्चों को न कहना सिखायें “No”

बच्चों को बताए कि ना कहें। कोई कितना भी लालच दे, अपने पास बुलाए पर आप को ना कहना है और फिर भी जबरदस्ती करे तो चिल्लाना है और वहां से भाग जाना है और जहां ज्यादा लोग हों वहां चले जाना है।

सीक्रेट जरुर बताएं

अगर कोई अजनबी या जानकार बच्चे को कोई बात मम्मी पपा को बताने के लिए मना करे तो वो बात जरुर बताए।  इसे बिल्कुल नही छुपाना चाहिए।

Advertisement

बच्चों को confident बनाए

बच्चे को बचपन से ही confident बनाए। किस से कैसे बात करनी है, कैसे नही इसकी ट्रेनिंग भी दें, क़्योंकि बच्चा अगर अजनबी व्यक्ति को जवाब देते डरेगा तो यह उसके लिए नुकसानदायक हो सकता है। अजनबी उसे नुकसान पहुँचा सकता है।

अपना फोन नंबर जरूर याद कराए

बच्चों को अपना फोन नंबर और घर का पता जरूर याद करवाना चाहिए, क्या पता कब जरूरत पड़ जाए या अगर कोई बात करे तो मम्मी पापा अपने बच्चे के साथ कोई कोड वर्ड बना लें … वो कुछ भी हो सकता है चाहे आपकी मनपसंद चाकलेट या कोई नाम या कोई फिल्म कुछ भी।

Advertisement

ग्रुप में रहें बच्चे

कोशिश ये भी करनी चाहिए कि छोटे बच्चे ज्यादा समय अकेले न रहें। स्कूल में भी हैं तो चार पांच बच्चों का ग्रुप बना लें और घर पर बच्चा है तो तब भी उसे स्मार्ट बनाना है ये नही कि घर पर कोई भी आए वो भाग कर दरवाजा खोल ले।

पेरेंट्स बच्चों से बात करें

Advertisement

इन सबसे ज्यादा जरुरी ये भी है कि पेरेंट्स बच्चों से बात करें स्कूल से लौटने पर पूछे कि आज क्या क्या किया। सारी बात किसी पुलिस की तरह नही बल्कि बातों बातों में आराम से करनी चाहिए।

बच्चे की भी सुने

आमतौर पर अपनी व्यस्त्ता की वजह से पेरेंट्स बच्चे को सुनते नही वो सोचते है अच्छे बडे नामई गिरामी स्कूल में हैं, अब कोई चिंता नही वो निश्चिंत हैं पर बच्चों से बात करना और बच्चों की सुनना बहुत जरुरी है।

डर न बैठाएं – Incidents eye opener होते हैं

Advertisement

कई बार स्कूल में कोई धटना हुई तो पैरेंटस बच्चों को स्कूल भेजना बंद कर देते हैं। डरने के बजाय डट कर सामना करना सीखना चाहिए। सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग भी जरुर देनी चाहिए। इससे बच्चों में बहुत आत्मविश्वास आता है। 

Bodyguard बनिये

गुड टच और बेड टच Good touch Bad touch  के बारे में भी बहुत सोच समझ कर समझाएं। असल में बच्चे बहुत मासूम होते हैं।

Advertisement

View Comments

Recent Posts

कोरोनोवायरस क्या है और मुझे क्या करना चाहिए?

क्या है कोरोना वायरस? कोरोना वायरस (सीओवी) का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से…

12 months ago

What is coronavirus and what should I do if I have symptoms?

What is Covid-19 – the illness that started in Wuhan? It is caused by a member of the coronavirus family…

1 year ago

चीकू खाने के फायदे और नुकसान

Incredible Sapota (Chiku) Benefits in English चीकू प्रकृति द्वारा दिया गया एक ऐसा बेहतरीन तोहफा है, जिसके अनेकों फायदे है।…

1 year ago

Incredible Sapota (Chiku) Benefits: From Boosting Energy to Bone Health

Sapota, an excellent gift given by nature with many benefits. Sapota is a simple fruit to see, but studying it…

1 year ago

Sesame Seeds Benefits

Sesame seeds is usually used in winter. It tastes very good with jaggery in sweet things during winter. Sesame contains…

1 year ago

तिल के फायदे (Til ke Fayde)

आमतौर पर सर्दियों में तिल का इस्तेमाल तो होता ही है। सर्दियों के दौरान मीठी चीजों में गुड़ के साथ…

1 year ago

This website uses cookies.