बच्चों को पढ़ना कैसे सिखाएं

बच्चों को पढ़ाना कितना मुश्किल होता है। यह एक टास्क से कम नहीं होता।

 जब बच्चे टीवी देख रहे होते है तो वे सारा ध्यान टीवी पर ही लगाते हैं, मोबाइल में कुछ देख रहे होते हैं तो उनका पूरा ध्यान मोबाईल में ही होता हैं। लेकिन पढ़ाई के टाइम पर वे बहुत आना कानी करते हैं।

Advertisement

ऐसा इसलिए होता है कि जब हम कुछ काम कर रहे होते हैं और बच्चे बीच में परेशान करते हैं तो हम उन्हें बोलते हैं टीवी देख लो या फिर थोड़ी देर फोन लेलो। न ही हम उन्हें बीच में बोलते है कि जब तक शांत है तो रहने दो।

इससे उसका सारा ध्यान टीवी या फोन में लगता है। लेकिन जब हम पढ़ाई कराते है तो उन के पास बैठते हैं और बार-बार उनको बोलते है जल्दी करो, ये नहीं वो करो, जिससे उनका ध्यान भटक जाता है। आज हम बात करेंगे कि बच्चों को कैसे पढ़ाया जाए :

 

Advertisement

एकाग्रता

बच्चों में एकाग्रता बढ़ाने के लिए हर रोज ऊूँ का उच्चारण करवाना चाहिये। इससे उनका ध्यान केंद्रित होगा और जो भाग -दौड़  उनके मन में चलती है वो शांत होगी।

रंग-बिरंगे खिलौने

रंग-बिरंगे खिलोनों के माध्यम से बच्चों को पढ़ाया जा सकता हैं इससे वे खेल-खेल में पड़ना सीख लेंगे। 

Advertisement

पिक्चर वाली किताबे

बाजार में बहुत सी किताबे आती हैं जिनमे पिक्चर होती है और उनकी सहयता से बच्चे जल्दी ही सीख जाते हैं।

Advertisement

प्रोत्साहन बढ़ाए

बच्चों की हर छोटी-छोटी उपलब्धि पर उसे sabasi दे। इससे बच्चे का प्रोत्साहन बढ़ेगा और वह ओर भी लगन से नई-नई चीजें सीखेगा।

लयात्मक तरीके से सिखाए

बच्चे को जो कुछ पढ़ाना सिखाए,वो लयात्मक तरीके से सिखाए। इससे बच्चा जल्दी सीखेगा और साथ में मस्ती भी करेगा।

Advertisement

चिड़े नहीं

बच्चे के साथ बच्चा बन कर रहना पड़ता है। बच्चों को पढ़ाते समय धैर्य चाहिए। अगर आप गुस्सा करेंगे तो उसकी gigasa शांत नहीं होगी और बच्चा आप से कतराने लगेगा जो आगे आने वाले भविष्य के लिए अच्छा नहीं है।

Advertisement

वीडियो या टीवी

जब बच्चे टीवी देख रहे होते है तो वे सारा ध्यान टीवी पर ही लगाते हैं, मोबाइल में कुछ देख रहे होते हैं तो उनका पूरा ध्यान मोबाईल में ही होता हैं। इसका उपयोग हम बच्चो को कुछ सिखाने में भी कर सकते है। मोबाइल में बहुत सारी वीडियो बच्चों के एजुकेशन वाली होती हैं। उनको वो दे देखने के लिए।

Advertisement