किशमिश खाने के फायदे (Benefit of Raisins)

आजकल की भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी में लोग इतना बीजी हो जाते हैं जिसके चलते वो अपनी सेहत का भी ध्यान नहीं रख पाते और इसी वजह से लोग कमज़ोर होते जा रहे हैं। इसलिए लोग अपने शरीर में ताकत लाने के लिए कई तरह के उपाय करते हैं। कई लोग तो बाज़ार में मिलने वाले ताकत के पाउडर का भी सेवन करते हैं। इतने पैसे खर्च करने के बावजूद भी लोगों को वो फल नहीं मिलता जो वो चाहते हैं।

आज हम आपको एक ऐसी चीज़ के बारे में बता रहे हैं जिसके सेवन से आपके शरीर को कई तरह के फायदे होंगे। आज हम आपको एक घरेलू नुस्खा बता रहे हैं जिसके सेवन से आपके शरीर में शेरों जैसी ताकत आ जायेगी। चलिए आपको बताते हैं ऐसी घरेलू नुस्खा।

Advertisement

हम बात कर रहे हैं किशमिश (Raisins or Dry Grapes or Kismisकी, अक्सर लोग किशमिश को मेवे के रूप में खाते हैं। लोग किशमिश को स्वाद के लिए खाते है लेकिन शायद उन्हें इसके सेहत से जुड़े फायदों के बारे में नहीं पता होगा। आज हम आपको किशमिश के कुछ फायदे बता रहे हैं जिनके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे। आपको बता दें अगर आप किशमिश को 1 महीने तक रोजाना भिगों कर खाते हैं तो इससे आपके शरीर को बहुत से फायदे मिलेंगे।

अंगूर को सूखाकर किशमिश बनाया जाता है। इसमें वे सारे तत्व पाए जाते है जो अंगूर में मौजूद होते है। इतना ही नहीं सूख जाने बाद इसके गुण कई गुणा बढ़ जाते है जिससे कई सामान्य बिमारियों को ठीक करने में किशमिश मददगार साबित हो सकता है

किशमिश खाने के फायदे:

 

Advertisement

  • कब्

जब किशमिश को खाई जाती है तो यह पेट में जा कर पानी को सोख लेती हैं। जिस वजह से यह फूल जाती है और कब्‍ज में राहत दिलाती है।

  • पाचन

किशमिश मे फाईबर बहुतायत में होता है। सूखने के दौरान इसके फाइबर सिकुड़ जाते हैं लेकिन पेट में जाकर वापस अपने स्वरुप में आ जाते हैं। घुलनशील और अघुलनशील दोनों प्रकार के फाइबर के कारण यह कब्ज से भी बचाता है और दस्त में भी लाभदायक होता है।इनसे पेट और आँतों की सफाई हो जाती है। इससे भोजन के पोषक तत्वों का अवशोषण सही तरीके से हो पाता है। इस कारण से भूख अच्छी लगी है , पाचन शक्ति मजबूत होती है तथा  स्वास्थ्य अच्छा बना रहता है।

Advertisement
  • दांत और मसूड़े

किशमिश मीठा होता है लेकिन इससे दांत ख़राब नहीं होते बल्कि यह दांत और मसूड़े ख़राब होने से बचाता है। इसमें पाए जाने वाले ओलिनोलिक एसिड नामक फाइटो केमिकल तत्व दांत की कैविटी से रक्षा करते हैं तथा मुंह में पाए जाने वाले नुकसानदायक बैक्टीरिया को नष्ट करने में सहायक होते हैं।ये मसूड़ों को बीमारी और इन्फेक्शन से बचाते हैं। इसके अलावा किशमिश से मिलने वाला कैल्शियम दांत के इनेमल को मजबूत बनाता है।

  • यौन दुर्बलता

इस समस्‍या के लिये रोजाना किशमिश खाएं क्‍योंकि यह कामेच्छा को प्रोत्साहित करती है। इसमें मौजूद अमीनो एसिड, यौन दुर्बलता को दूर करता है। इसीलिये तो शादी-शुदा जोडों को पहली रात दूध का गिलास दिया जाता है जिसमें किशमिश और केसर होता है।

  • एनीमिया

किशमिश में भारी मात्रा में आयरन होता है जो कि सीधे एनीमिया से लड़ने की शक्‍ति रखता है। खून को बनाने के लिये विटामिन बी कॉमप्‍लेक्‍स की जरुरत को भी यही किशमिश पूरी करती है। कॉपर भी खून में लाल रक्‍त कोशिका को बनाने का काम करता है।

Advertisement
  • शराब के नशे से छुटकारा

शराब पीने की इच्छा हो तब शराब की जगह 10 से 12 ग्राम किशमिश चबा-चबाकर खाते रहें या किशमिश का शरबत पियें। शराब पीने से ज्ञानतंतु सुस्त हो जाते हैं परंतु किशमिश के सेवन से शीघ्र ही पोषण मिलने से मनुष्य उत्साह, शक्ति और प्रसन्नता का अनुभव करने लगता है। यह प्रयोग प्रयत्नपूर्वक करते रहने से कुछ ही दिनों में शराब छूट जायेगी।

  • वजन बढाए

हर मेवे की तरह किशमिश भी वजन बढाने में मददगार साबित होती है क्‍योंकि इसमें फ्रकटोज़ और ग्‍लूकोज़ पाया जाता है जिससे एनर्जी मिलती है। अगर आपको भी अपना वजन बढाना है और वो भी कोलेस्‍ट्रॉल बढाए बिना तो आज से ही किशमिश खाना शुरु कर दें।

Advertisement
  • खून की कमी

किशमिश में आयरन खूब होता है, जो खून की कमी दूर कर सकता है। इसमें विटामिन B कॉम्पेक्स समूह के कई विटामिन होते हैं। ये नया खून बनने में सहायक होते हैं। इसमें पाया जाने वाला कॉपर भी नया रक्त बनने में मददगार होता है। विशेषकर काले द्राक्ष या किश मिश खून की कमी दूर करने में बहुत उपयोगी साबित होते हैं। इसमें पाए जाने वाले विटामिन ,  एमिनो एसिड तथा खनिज भोजन के पोषक तत्वों के अवशोषण की शक्ति बढ़ाते हैं।

  • हड्डी की मजबूती

हड्डी के लिए कैल्शियम एक जरुरी तत्व है। किशमिश में कैल्शियम की भरपूर मात्रा होती है। इसके अलावा इसमें बोरोन नामक माइक्रो न्यूट्रिएंट होता है। बोरोन हड्डी के निर्माण तथा कैल्शियम के उचित अवशोषण के लिए जरुरी होता है। यह महिलाओं में मेनोपोज़ के कारण होने वाले ऑस्टियो पोरोसिस को रोकने में सहायक होता है तथा हड्डी और जोड़ों के लिए फायदेमंद होता है। इसके किशमिश से मिलने वाले पोटेशियम की मौजूदगी भी हड्डी की मजबूती में योगदान प्रदान करता है।

Advertisement
  • आँख

किशमिश में पाए जाने वाले फीटो नुट्रिएंट्स आँखों के स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होते हैं। ये फ्री रेडिकल के कारण आँख को होने वाले नुकसान जैसे मेक्यूला की खराबी, उम्र के साथ होने वाली आँखों की कमजोरी, मोतियाबिंद आदि से बचाते हैं। इसमें पाया जाने वाले विटामिन A भी आँख के लिए फायदेमंद होता है।